अहा जिंदगी!!! [Wow Life!!!!]

Life is full of OOHs, AAHs, WOWs, and HMMs. Every minute in life is a lesson to learn. This personal site is collection of such experiences.

Category

heart says

आठ करोड बार बिकने वाला वर्दी वाला गुंडा – वेद प्रकाश शर्मा

बचपन में चाचा चौधरी, बिल्लु-पिंकी, पराग, नंदन, लोटपोट, मधु मुस्कान आदि पढ़ते पढ़ते एस सी बेदी कृत ‘राजन इकबाल’ सीरिज के बाल उपन्यास पढने शुरु किये थे. तभी से क्राइम, मर्डर, जासुसी उपन्यासों की ओर झुकाव हो गया. उस समय… Continue Reading →

I am OK, You are OK

It’s OK to keep chanting Ahimsa Parmo Dharma, but it’s NOT OK to give two extra days life to few animals. It’s OK to call hanging of a terrorist ‘inhuman’ but it’s NOT OK to give two days extra life… Continue Reading →

मांझी

सोचा था कि कयामत तक उनका साथ होगा, मोहब्बत के इस जहां में अपना भी एक आशियाँ होगा। लेकिन हमको मालुम ना था कि कोई साथ नही देता, बीच लहरों में मांझी भी छोड़ जाता है॥ ****** आदमी तो हम… Continue Reading →

हमसफर

उन्हे भुलाने की कोशिश में खुद को भुला बैठा। उनकी यादों को मिटाने की कोशिश में खुद को मिटा बैठा।। बिना उनके मेरा वजुद भी मेरा अपना नही रहा। लेकिन उनकी यादों का साया मेरा हमसफर बना रहा।।

तेरे इश्क में फना

तेरे इश्क में फना हो जाता मै, गर उम्मीद का साथ न होता. अभी विरह की रात सही, मिलन की सहर का आगाज़ कभी तो होगा. बाँहों में अपनी तुझे समेट ना सका कभी तो क्या, तेरी मज़ार के पहलु… Continue Reading →

ना कोई दोस्त ना कोई रकीब

इशक भी अज़ीब शै है, सिर पर चढ कर बोलता है। तन्हाई भरी रातों में दिल को टटोलता है।। मेरी हिज्र की ये रातें, काटे नही कटती उनकी याद में। अपनी कहानी किससे कहूँ, सबके दिल में एक शूल है।।… Continue Reading →

कयामत की आरजू

कायनात मेरी रकीब तो नहीं। फिर मुझे कयामत की आरजू क्यों है।। मेरे नशेमन से उनकी रूखसत अब तलक याद है। आँखों में अश्क नहीं, फिर लबों पे मुस्कान क्यों है।। कयामत तक साथ रहने का, वादा उनका मुझे अब… Continue Reading →

ए तन्हाई तुझे क्या हुआ

ए जमाने ना कर इतना रश्क किस्मत पे हमारी. मुहब्बत तो हमे वो इस जहाँ मे सबसे ज्यादा करते हैं. उसका नाम तन्हाई है, जिसे लोग हमारी महबूबा कहते हैं. हमे उनसे इतनी मोहब्बत हो गयी कि किस्मत को भी… Continue Reading →

मेरी तन्हाई भी कभी तन्हा नही आई

कभी उनकी खुशबु तो कभी उनकी यादें समेट लाई। मेरे पास तो मेरी तन्हाई भी कभी तन्हा नही आई॥ रात भर मेरे बिस्तर पर बारिश होती रही, तकिया भीगता रहा। मै अपनी तन्हाई को आगोश में समेटे लेटा रहा॥ सहमी… Continue Reading →

तन्हाई

जब तन्हाई होती है तो उनकी याद आती है! लेकिन कम्बख्त ये तन्हाई, आती ही नही, आती है तो बस उनकी यादें!!

अपना दुःख, इनका दुःख

तेरह साल की एक बच्ची जिसको कैंसर की दवाई दी गयी. कैंसर तो पुरी तरह ठीक नही हुआ, उल्टा कुल्हे की हड्डीयाँ गल गयी. बढती उम्र की वजह से उसका कुल्हा भी नही बदला जा सकता. पैंतीस वर्षीया एक तलाकशुदा… Continue Reading →

मल्लिका शेरावत Bankrupt हो रही है

शनिवार का दिन कुछ फुर्सत भरा रहता है. अत: ट्विटर और फेसबुक (या फंसेबुक) पर कुछ ज्यादा समय बिता लेता हुँ. इस विश्व व्यापी संजाल पर कुछ नया ढुंढने की कोशिश करता रहता हुँ. आज इसी तरह संजाल भ्रमण करते… Continue Reading →

© 2017 अहा जिंदगी!!! [Wow Life!!!!] — Powered by WordPress

Theme by Anders NorenUp ↑