अहा जिंदगी!!! [Wow Life!!!!]

Life is full of OOHs, AAHs, WOWs, and HMMs. Every minute in life is a lesson to learn. This personal site is collection of such experiences.

Page 2 of 4

Women Empowerment or misuse of equality rights

Feel suffocated with women equality and empowerment seekers when i see ladies coach empty and ladies demanding to vacate seats in general coach of Delhi metro. Even if the general coach of a delhi metro is crowded the privileged species… Continue Reading →

तन्हाई का कारवाँ

ख़ुशियाँ हमें रास ना आई। हमारे लिये तो ग़मों का खज़ाना था॥ चल ना सके एक कदम किसी के साथ। हमारे लिए तो तन्हाई का कारवाँ था॥

एक लम्हा

सांसो में मेरी बसे तुम। तुमको कैसे भुला पाऊँगा॥ जुदाई तुम्हारी सहते रहे अब तलक। लेकिन तुम्हारी यादों को कैसे मिटा पाऊँगा॥ मौत भी आ जाए मिलने मुझसे अगर। तुम्हारे दीदार को एक लम्हा माँग लाऊँगा॥

आसमां से तारा टूटा

आसमां से तारा टूटा, दिल ने माँगी एक दुआ। दिल को क्या खबर, किसी ओर ने भी माँगी वैसी ही एक दुआ॥ मेरे दिल की दुआ में वो थे, उनकी दुआ में था कोई ओर। चाहा दिल ने मेरे उनको,… Continue Reading →

मांझी

सोचा था कि कयामत तक उनका साथ होगा, मोहब्बत के इस जहां में अपना भी एक आशियाँ होगा। लेकिन हमको मालुम ना था कि कोई साथ नही देता, बीच लहरों में मांझी भी छोड़ जाता है॥ ****** आदमी तो हम… Continue Reading →

हमसफर

उन्हे भुलाने की कोशिश में खुद को भुला बैठा। उनकी यादों को मिटाने की कोशिश में खुद को मिटा बैठा।। बिना उनके मेरा वजुद भी मेरा अपना नही रहा। लेकिन उनकी यादों का साया मेरा हमसफर बना रहा।।

तेरे इश्क में फना

तेरे इश्क में फना हो जाता मै, गर उम्मीद का साथ न होता. अभी विरह की रात सही, मिलन की सहर का आगाज़ कभी तो होगा. बाँहों में अपनी तुझे समेट ना सका कभी तो क्या, तेरी मज़ार के पहलु… Continue Reading →

ना कोई दोस्त ना कोई रकीब

इशक भी अज़ीब शै है, सिर पर चढ कर बोलता है। तन्हाई भरी रातों में दिल को टटोलता है।। मेरी हिज्र की ये रातें, काटे नही कटती उनकी याद में। अपनी कहानी किससे कहूँ, सबके दिल में एक शूल है।।… Continue Reading →

कयामत की आरजू

कायनात मेरी रकीब तो नहीं। फिर मुझे कयामत की आरजू क्यों है।। मेरे नशेमन से उनकी रूखसत अब तलक याद है। आँखों में अश्क नहीं, फिर लबों पे मुस्कान क्यों है।। कयामत तक साथ रहने का, वादा उनका मुझे अब… Continue Reading →

ए तन्हाई तुझे क्या हुआ

ए जमाने ना कर इतना रश्क किस्मत पे हमारी. मुहब्बत तो हमे वो इस जहाँ मे सबसे ज्यादा करते हैं. उसका नाम तन्हाई है, जिसे लोग हमारी महबूबा कहते हैं. हमे उनसे इतनी मोहब्बत हो गयी कि किस्मत को भी… Continue Reading →

मेरी तन्हाई भी कभी तन्हा नही आई

कभी उनकी खुशबु तो कभी उनकी यादें समेट लाई। मेरे पास तो मेरी तन्हाई भी कभी तन्हा नही आई॥ रात भर मेरे बिस्तर पर बारिश होती रही, तकिया भीगता रहा। मै अपनी तन्हाई को आगोश में समेटे लेटा रहा॥ सहमी… Continue Reading →

तन्हाई

जब तन्हाई होती है तो उनकी याद आती है! लेकिन कम्बख्त ये तन्हाई, आती ही नही, आती है तो बस उनकी यादें!!

« Older posts Newer posts »

© 2017 अहा जिंदगी!!! [Wow Life!!!!] — Powered by WordPress

Theme by Anders NorenUp ↑