एक लम्हा

ek-lamha सांसो में मेरी बसे तुम। तुमको कैसे भुला पाऊँगा॥ जुदाई तुम्हारी सहते रहे अब तलक। लेकिन तुम्हारी यादों को कैसे मिटा पाऊँगा॥ मौत भी आ जाए मिलने मुझसे अगर। तुम्हारे दीदार को एक लम्हा माँग लाऊँगा॥ Continue reading →

आसमां से तारा टूटा

White Beauty आसमां से तारा टूटा, दिल ने माँगी एक दुआ। दिल को क्या खबर, किसी ओर ने भी माँगी वैसी ही एक दुआ॥ मेरे दिल की दुआ में वो थे, उनकी दुआ में था कोई ओर। चाहा दिल ने मेरे उनको, उनके दिल में था कोई ओर॥ प्यार किया था मैने उनसे, उनको था प्यारा कोइ […] Continue reading →

मांझी

chikldhr 280 सोचा था कि कयामत तक उनका साथ होगा, मोहब्बत के इस जहां में अपना भी एक आशियाँ होगा। लेकिन हमको मालुम ना था कि कोई साथ नही देता, बीच लहरों में मांझी भी छोड़ जाता है॥ ****** आदमी तो हम भी काम के थे, ख़ुद क़ो निकम्मा बना डाला। दुहाई देते थे हम वफा की, […] Continue reading →

हमसफर

humsafar उन्हे भुलाने की कोशिश में खुद को भुला बैठा। उनकी यादों को मिटाने की कोशिश में खुद को मिटा बैठा।। बिना उनके मेरा वजुद भी मेरा अपना नही रहा। लेकिन उनकी यादों का साया मेरा हमसफर बना रहा।। Continue reading →

तेरे इश्क में फना

Tujhe Bahon Mei Samet Na Saka तेरे इश्क में फना हो जाता मै, गर उम्मीद का साथ न होता. अभी विरह की रात सही, मिलन की सहर का आगाज़ कभी तो होगा. बाँहों में अपनी तुझे समेट ना सका कभी तो क्या, तेरी मज़ार के पहलु में एक पत्थर मेरे नाम का तो होगा. Continue reading →

ना कोई दोस्त ना कोई रकीब

Hijra ki Raate इशक भी अज़ीब शै है, सिर पर चढ कर बोलता है। तन्हाई भरी रातों में दिल को टटोलता है।। मेरी हिज्र की ये रातें, काटे नही कटती उनकी याद में। अपनी कहानी किससे कहूँ, सबके दिल में एक शूल है।। ना कोई दोस्त ना कोई रकीब है, जिंदगी बडी अज़ीब है। गले उनको कैसे लगाऊँ, […] Continue reading →